Breaking

शनिवार, 14 सितंबर 2019

चांद पर विक्रम लैंडर का पता चल गया वैज्ञानिकों ने दी खुशखबरी अब होगी कम्युनिकेशन चालू ?

चांद पर विक्रम लैंडर का पता चल गया वैज्ञानिकों ने दी खुशखबरी अब होगी कम्युनिकेशन चालू ? 

Why did Chandrayaan 2 launch?
 इसरो ने भी खुशखबरी मिल गया विक्रम लेंडर

चंद्रयान 2 चंद्रयान 2 बारे में एक बड़ी खबर निकलकर सामने आ रही हैं खबर ऐसी जो आपकी चेहरे पर खुशी ला देगी, कल जा इसरो की तरफ से जो खबर सुनकर हम सभी की आंखें भर आई थी! उसके बाद जो खबर आई जिसे सुनकर आपकी चेहरे पर खुशी आ जाएगी!
जो विक्रम लैंडर कल अपना रास्ता भूल गया था, कहीं और चला गया था, आज वह हमें मिल गया है! कैसी हालत में मिला है और कैसी हालत में मिला है आज हम आपको बताएंगे,
When was the Chandrayaan 2 launch?
ऑर्बिटर ने ली चांद पर उतरे विक्रम लेंडर की तस्वीर

दरअसल चंद्रयान 2 के साथ जो ऑर्बिटर गया था, जो चांद के चारों ओर चक्कर काट रहा है, उस ऑर्बिटल में लगा ऑप्टिकल हाई रेगुलेशन कैमरा OHRC ने विक्रम लैंडर की तस्वीरें लि है, पता चला है कि जहां विक्रम लैंडर को लेंडिंग कराने की योजना थी, वह उसे 500 मीटर दूर उत्तर गया है! वह अपना रास्ता भटक गया था लेकिन अब इसरो चीप कैसीवन मैं एक चैनल से बातचीत करते हुए बताया है की विक्रम लैंडर हमें मिल गया है!
हमारे वैज्ञानिकों ने उससे ढूंढ लिया है लेकिन अब तक दिक्कत क्या है कि हम विक्रम लैंडर तक संदेश नहीं भेज पा रहे हैं यानी कांटेक्ट नहीं कर पा रहे हैं! इसरो सेंटर से लगातार विक्रम लेंडर ऑफ ऑर्बिटर को लगातार संदेश भेजा जा रहा है! ताकि कम्युनिकेशन चालू हो सके,
Is Chandrayaan 2 a manned mission?
इसरो चीप कैसीवन ने बताया है की विक्रम लैंडर हमें मिल गया है!

दोस्तों कम्युनिकेशन चालू हो जाता है तो भारत अपने हर सपने को पूरा कर सकता है, इसरो के वैज्ञानिकों लगातार प्रयास कर रहे हैं साथ विक्रम लेंडर से और प्रज्ञान रोवर से जुड़ा जा सके! भविष्य में विक्रम लेंडर और प्रज्ञान रोवर इतना काम करेंगे इसका पता तो डेटाएनालाइज के बाद ही पता चलेगा! ऑर्बिटर अपना काम अच्छे तरीके से कर रहा है,ऑर्बिटल में लगा ऑप्टिकल हाई रेगुलेशन कैमरा से जो विक्रम लेंडर की जो तस्वीरें ली गई हैं,
जो चांद की सतह से ली गई! यह कैमरा चांद की सतह से 1.08 फिट तक किसी भी चीज की स्पष्ट तस्वीर ले सकता हैं, ऑर्बिटर नहीं जो तस्वीर लिए उन्हीं से पता चला कि विक्रम लेंडर को जहां लेंडिंग करवानी थी वह उससे 500 मीटर दूर उत्तर गया! हम भगवान से प्रार्थना करते हैं कि जल्द से जल्द विक्रम लेंडर का कम्युनिकेशन सिस्टम चालू हो जाए! ताकि हमारा चंद्रयान टू मिशन सफल हो सके ?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें